जब रायबरेली के किसानों ने अंग्रेजी सरकार की जड़े हिला दी थी

तिरंगे झंडे के सम्मान के लिए विश्व की वीरता के इतिहास में एक स्मरणीय बलिदान हुआ । एक अनपढ़ ग्रामीण वृद्धा के आत्म गौरव की भावना ने अंग्रेजी हुकूमत के फौलादी पंजों का पानी उतार दिया यह था । यह था रायबरेली के सलोन तहसील के करहिया बाजार का गोलीकांड । घटना की तिथि 20 मार्च 1921 मुंशीगंज हत्याकांड से ठीक कुछ दिन बाद का था ।करहिया रियासत का जागीदार बहुत जालिम था जनता का शोषण करने की कला में तो उस समय के सभी जागीदार पारंगत थे । और उसे अपना जन्मसिद्ध अधिकार मानते थे । किंतु यह जागीदार जुल्मों के नए-नए और नग्न रूप खोजने में आश्चर्य था । इतिहास का सबसे बड़ा बधिक नादिरशाह की बेरहमी उसके मुकाबले हेच थी ।
20 मार्च 1921 को करहिया बाजार में एक किसान सभा का आयोजन था । क्षेत्रीय किसानों को संगठित करने और रियासत के जागीदार के खिलाफ खुली बगावत के  उद्देश्य से सभा को कुछ किसान नेता संबोधित करने आए थे । झुंनकू सिंह और बृजपाल सिंह इस सभा के मुख्य आयोजक और प्रमुख वक्ता थे।
झुंनकू सिंह इसी रियासत के एक साधारण किसान थे। सैकड़ों किसानों को लेकर झुंनकू सिंह ने अपनी आवाज उस दिन अधिकारियों तक पहुंचाने के लिए गढी को घेर लिया । सलोन थाने की पुलिस रियायत के जागीरदार की मदद को पहुंची उसने झुंनकू सिंह और बृजपाल सिंह को गिरफ्तार कर लिया । किंतु उन्हें वह वहां से ले ना जा सकी । भीड़ ने अपने नेताओं को पुलिस से छीन लिया । इस पर पुलिस ने गोली चला दी जिससे 2 किसान शहीद हुए और 5 घायल हो गए । लेकिन भीड़ से टस से मस ना हुई । थानेदार घबराकर सदल बल घटनास्थल से रफूचक्कर हो गया ।आधी रात से लेकर सुबह तक हजारों किसान बैठे रहे और भाषण होते रहे। पुलिस छिपी रही किंतु उसने घटना की सूचना सदर पहुंचा दी थी ।
शान न इसकी जाने पाए चाहे जान भले ही जाए
सुबह होते-होते जिला कलेक्टर और पुलिस कप्तान अतिरिक्त टुकड़ी लेकर मैदान में डटे । बड़े अधिकारियों को अमले के साथ देखकर लोगों का उत्साह और बढ़ा । सारा आकाश अत्याचार विरोधी नारों से गूंज उठा तिरंगे को हाथ में लेकर झुंनकू सिंह ने वंदे मातरम का जोरदार नारा लगाया ।
हजारों किसानों के स्वर से गूंजते नारों से अँग्रेजी हुक्मरान झेंप गए इस को मिटाने के लिए थानेदार झुंनकू सिंह के हाथ से तिरंगा छीनने के लिए झपट पड़े । तिरंगे झंडे के अपमान का खतरा देख कर वह झण्डा थामे थामे थानेदार से लिपट गया हुआ था । थानेदार ने दबोच कर जमीन पर पटक दिया लेकिन साथ ही साथ वह भी चारों खाने चित होकर कर गिर गया ।इस हंगामे में झंडा एक तरफ को खिसका तो उसे उठाने के लिए पुलिस वाले लपके मगर उनके लपकने से  पहले सभा में भाग लेने आई करहिया बाजार सलोन से आयी वृद्धा भगतिन झण्डे से लिपट गई । और तिरंगें की शान बरकरार रखी । इस बीच क्या हुआ खिसियाया हुआ  थानेदार उठा और उठते ही उसने पिस्तौल दाग दी गोली झुंनकू सिंह के छाती में लगी  और वह शहीद हो गए। तिरँगा झंडा अभी तक मां भगतन के हाथों में था । थानेदार और सिपाहियों की शक्ति भी जब झंडा छीनने में असफल रही तो खुद थानेदार की गोली मां भगतन के सीने में धंस गई । बाद में माँ भगतिन का शव जब चिता पर रखा गया तब भी वही तिरँगा झण्डा उनसे लिपटा हुआ था । बाद में अँग्रेजी सरकार द्वारा मां भगतन का उनके बलिदान को कम करने की दृष्टि से सरकारी रिपोर्ट में कहा गया कि करहिया बाजार में पुलिस की गोली से एक व्यक्ति मारा गया और 7 घायल हुए उनको गिरफ्तार कर लिया गया । जिसमें से जेल में जाने से झुंझनू सिंह के घाव सड़ जाने से जेल में मृत्यु हो गई और बृजपाल सिंह को 4 वर्ष का कठोर कारावास दिया गया।

Website Design By Mytesta +91 8809666000